Monday, 29 March 2021

बालम ! तुम बिन फिरूँ बिलल्ला / भागवत अनिमेष

कविता


        तुमने दिल ऐसे  माँगा था ज्यों पीतल का छल्ला
        हम क्या जानें हमरी किस्मत में लिक्खा है नल्ला
        तुम तो कविताई में पागल नित नित नया पुछल्ला
        अजी पिया तुम तो कलकतिया झाड़ गए फिर पल्ला
        सुन सकते तो सुन लो बालम हमरे दिल का हल्ला
        तुम बिन बेरथ आज लगे है हिय का सिम्मुलतल्ला
        जब से भई कवियों की संगत सुख-सपना सब झल्ला
        काव्यसम्पदा के तुम स्वामी , नहीं मनुज तुम भल्ला
        भावों से ही भरा हृदय है , घर में नाहीं गल्ला
        हमरी सुधि अब ले लो बालम कविवर विकट निठल्ला
        पिय अनिमेष सुधर जा अब भी छोड़ अदब का बल्ला।
....

कवि - भागवत अनिमेष
ईमेल - bhagwatsharanjha@gmail.com




                                  

खामोशी- शिवम की कविताएँ

हमारी भावनाएँ हमारे शब्दों तक सीमित नहीं हैं,

शब्द तो बस मुखड़े है, पूरे गीत नहीं हैं ।

झांको इन आँखों में, समझो आंसुओं की शक्ति को

मेरी ख़ामोशी में पढ़ लो, मेरी पूरी अभिव्यक्ति को।




(1)
सुनता हूँ तुम्हें 
तुमसे ज़्यादा 
तुम्हारी खामोशियों में 
क़्योकि,
ख़ामोशियों में वो भी सुन लेता हूँ 
जो तुम शब्दों में 
व्यक्त नहीं कर पाते हो।

 (2)
सुमझता हूँ तुम्हें 
तुमसे ज़्यादा 
तुम्हारी खामोशियों में 
क़्योकि, 
ख़ामोशियों में वो सब समझ लेता हूँ 
जो तुम समझा नहीं पाते
और मैं समझना चाहता हूँ ।

 (3)
बोलती हैं 
मुझसे अधिक 
मेरी ख़ामोशी 
क्योंकि,
ख़ामोशी में होती है
न शब्द की सीमाएँ 
और न शिष्टाचार के बंधन


गीत
*मैं बुलाता हूँ रहूँगा *

मैं बुलाता ही रहूँगा 
पास लेकिन तुम न आना
दूर से ही आगमन का
बस मुझे संकेत देना
मैं बुलाता..........

हर प्रतीक्षा के क्षणों में 
स्मृतियाँ बन कर समाना
अश्रु बन कर समाना।

वेदना के गीत गाना
मैं बुलाता........

रहे कल्पना में छवि तुम्हारी
स्वप्न की दुनिया में आना 
आये बिन न रह सको तो
बन चौदहवीं का चाँद आना 
मैं बुलाता..............

एक अधूरी सी किरण
मन के दीपक जगमगाना
ग़र मिल गये पूरे मुझे तुम 
और क्या रहेगा मुझको पाना
मैं बुलाता...........
....

कवि- शिवम
ईमेल- shivam.kumar@sbimf.com



Sunday, 1 November 2020

नजरिया बदला / कवयित्री - लता प्रासर

कविता 

 (मुख्य पेज - bejodindia.in /  हर 12  घंटे  पर  देखिए -   FB+  Bejod  / यहाँ कमेन्ट कीजिए)

(भारत की महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपना झंडा गाड़ा है.  अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला हो, प्रथम महिला आईपीएस किरण बेदी हों, खेल में पीटी उषा हों या व्यवसाय में नैनालाल किदवई,  चाहे राजनीति में इंदिरा हों या सुषमा,- जहाँ रहीं अपना झंडा गाड़ा. आइये सहित्यकर्म में बरसों से सक्रिय और अनेक संघर्षों को झेलती हुई अपनी एक पहचान कायम  करनेवाली लता प्रासर की इस विषय पर एक रचना देखते हैं। -संपादक)





 समय बदला है
नज़रिया बदला

अपने इरादों को बदलना
अपने बारे में गहराई से सोचना

बिटिया मां की परछाई नहीं
मां परछाई बनकर साथ है 

धूप छांव में
शहर या गांव में
जुमलों के दांव में
समय बिन गंवाए
अपनी पहचान
अपना ईमान
बचाए रखना 
और
जिंदगी का इम्तिहान
सफल बनाए रखना

उंगली यूं ही
एक-दूसरे की
थामें रहें
या
स्त्रीत्व को बचाए रहें

सफ़र केवल सफ़र नहीं है
जिंदगी का उर्ध्वोत्तर बढ़ना है
सिमोन द बोउआ
इसी की लड़ाइयां लड़ती रहीं

इंदिरा को इसीलिए
ऊपर का रास्ता दिखाया गया
किरण बेदी हाशिए पर गई थी
सोचना

अपने लिए
कौन कहां
जगह बना पाया
सितारों के बीच
कहीं कोई जगह तलाशना ही
जिंदगी का सफ़र है

विचारों से
डिगना नहीं
डरना नहीं
डगमगाना नहीं
विचार ही सीढ़ी है

मानव से मानवता की ओर
जाने का
स्त्री से मनुष्यता तक जाने की
व्यवहार से कर्म तक जाने की
अपनों से अपनेपन तक जाने की

इसलिए हमेशा
विचारों को
बचाए रखना
यही
भूत भविष्य वर्तमान की
पूंजी है

जाओ
और बचा लो
इस सच को
जाओ
जाओ
मिट्टी को याद रखना.
...
कवयित्री -  लता प्रासर
कवयित्री का ईमेल आईडी- kumarilataprasar@gmail.com
प्रतिक्रिया हेतु इस ब्लॉग का ईमेल आईडी - editorbejodindia@gmail.com

Saturday, 31 October 2020

प्यार के तरन्नुम से बदल जाते हैं कुछ लोग / कवि - भास्कर झा

कविताएँ

 (मुख्य पेज - bejodindia.in /  हर 12  घंटे  पर  देखिए -   FB+  Bejod  / यहाँ कमेन्ट कीजिए)


1

साथ चलते  चलते बदल जाते हैं कुछ लोग
राह देखते देखते निकल जाते हैं कुछ लोग
पल भर का तमाशा शोहरत ओ जिन्दगानी
जवानी में अक्सर फ़िसल जाते हैं कुछ लोग
रहा वक्त का फ़साना जिन्दगी के सफ़र में
दिल-जिगर को भी निगल जाते हैं कुछ लोग
चंद जज्बात के बहाने यूं ही बेमौत मारते हैं
मैय्यत के नाम पर पिघल जाते हैं कुछ लोग
इन्सान है मगर फिर भी हौसला बुलन्द रख
प्यार के तरन्नुम से बदल जाते हैं कुछ लोग
.....

             
2

लम्बी चुप्पी 
वो लम्बी चुप्पी 
खामोश कर देती है मुझे
और यथार्थ 
मेरी कल्पना को,
बस मूक ही रह जाती है 
सारी अनुभूति मेरी
अभिव्यक्ति की तलाश में...
घुटन सी होती है 
मेरी रूह को
तलाशते तलाशते आवाज़
थक जाती हैं
मेरी एकटक ऑंखें...
इक बेचैन सी 
जद्दोजहद होती है 
इक टीस दबी सी रहती है 
दिल में 
अजीब दर्द के साथ 
छोड़ देता हूँ
मैं तब खुद को 
तुम्हारी सोच के हवाले..
जब आती है मुझे 
नींद थोडी सी भी 
आखिर !
जगा ही देती हो 
तुम 
अपने मीठे मीठे 
उन्मुक्त रूमानी सपनों से !
.....

3

चांद और समाज
आधुनिकता की गोद में 
पलते खेलते मानव 
पहुंच चुका है आसमान और चांद पर
कर चुका है सैर 
पूरे ब्रह्माण्ड की
प्रकृति के ममतामयी सीने को
चीर कर,
दूध की बजाय 
चूस चुका है लाल लाल खून
और अट्टहास करते हुए
घोषणा करता है 
कि वह आज विकसित है…
अत्याधुनिक विज्ञान के नेटवर्क में 
उलट-पुलट, उलझ कर
जुड़ने के नाम पर 
अलग होते जा रहे हैं सब के सब
हमारे बीच 
खड़ी होती जा रही हैं
शिक्षा, प्रगति, बुद्धि, सम्पदा की लम्बी दीवारें,
आगे बढने की होड़ में
रोज पीछे छूटते जा रहे हैं हम…
तथाकथित विकास के नाम पर
अविकसित हो रहे हैं हम
सभ्यता-संस्कृति, मान, मर्यादा
सामय़िक, पारिवारिक, रिश्ते-नाते का बंधन
जंजीर-सा लग रहा है भारी
पूर्ण वस्त्र में सुसज्जित सुन्दरता से 
नाक भौं सिकोड़कर
नग्नता का खेल देखने के 
आदी हो चुके हैं हम…
समाज से कटकर
हाथ में लैपटॉप लिए इतराते छितराते
निर्जन स्थान पर 
जोड़ रहे हैं खुद को एक अनजान दुनिया से,
अपने रिश्ते नातों से खुद
मुंह मोड़ रहे हैं हम….
क्या यही ज्ञान की, समग्र विज्ञान की
गंहराई है, ऊंचाई है
या कि विशेष ज्ञान की है काली परछाई ?
कैसी शिक्षा है कि हम आज
सभी मूल्यों, भावनाओं के प्रति 
उदासीन हो रहे हैं प्रतिदिन,
पश्चिमी सभ्यता के पराधीन हो रहे हैं
भारतीय संस्कृति की नजर में
नराधम हो रहे हैं हम….
...

4

पास आते आते जब 
आ नहीं सकी थी तुम
तब मुझे तुम्हें भूलना
ठीक से आ गया था
मिलते थे रोज हम
बाग और बगीचों में
कुछ सिपहसलार पेड़
खूब मुहैया करवाते थे
प्यार को कुछ छाया
वहीं बनी बैठकी पर
प्रेमागमन का स्वागत
करती पक्षियों की खुशी
हवाओं के बीच तैरती थी
हमे रिझा रिझा कर
और हम एक दूसरो को
भविष्य को सिरहाने बनाकर 
जिन्दगी को समझने की
एक अबूझ आपाधापी में
सो जाया करते थे सपनों में...
फिर कहीं से पता नहीं कहां से
हकीकत का आता था  
तेज हवाओं का एक झोका
और हम उठ जाया करते थे
अपने अपने बिस्तर पर
तुम अपने घर में
मैं अपनी तन्हाई के साथ...
क्योंकि ............
अब तुम आ नहीं सकती थी
कभी भी अपना जख्म दिखाने
अपने दिल की पुकार सुनाने
कारण....
अब तुम गुनगुनाने लग गयी थी
एक स्वभाविक जिन्दगी गीत
खुशी भी मंडराने लगी थी
एक शिकन के साथ चेहरे पर
और र्मैं भी हंसने लगा था
दिली ख्याली पुलाव खाकर....
सच में !
पास आते आते जब 
आ नहीं सकी थी तुम
तब मुझे तुम्हें भूलना
ठीक से आ गया था......
.....

कवि- भास्करानंद झा 'भास्कर'
परिचय -ये कवि भास्कर झा के नाम से भी जाने जाते हैं और अंग्रेजी, हिंदी एवं मैथिली के जाने-माने कवि हैं. इनके दो काव्य संग्रह अंग्रेजी में आ चुके हैं. 
कवि  का ईमेल आईडी - bhaskaranjha@gmail.com
प्रतिक्रिया हेतु इस ब्लॉग का ईमेल आईडी - editorbejodindia@gmail.com





Friday, 17 July 2020

कोरोना काल में मेरी साहित्यिक यात्रा / कंचन कंठ

आत्म-वृतांत 

 (मुख्य पेज - bejodindia.in /  हर 12  घंटे  पर  देखिए -   FB+  Bejod  / यहाँ कमेन्ट कीजिए)






कोरोना सचमुच काल ही तो बन कर आया! इसका आगमन तो वर्ष 2019 ई के दिसंबर में ही हो चुका था; चीन के वुहान सिटी से! पर देशवासियों को इसका कोई भान नहीं था। वे इसे विदेशों में फैला हुआ ही समझ रहे थे।
     
जनवरी में कुछ सुगबुगाहट हुई ‌। विदेशों में इसके प्रकोप के किस्से सामने आने लगे‌।एक साथ अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस,जापान, अस्ट्रेलिया, साउथ कोरिया ,न्यूजीलैंड ,इटली, वियतनाम आदि कई देश इसके चपेट में ही नहीं के, बल्कि विभिन्न रुपमें इसके चतुर्दिक फैलतै जाने के समाचारों से प्रिंट और सेल्यूलाइड की दुनिया पट गई।



लेकिन कबूतर के आंख मूंद लेने से बिल्ली के झपटने का खतरा टल तो नहीं जाता! इसने 2020 ई में मार्च आते आते भयंकर रुप धारण कर लिया।जब तक विदेशों में इसका प्रलयंकारी रुप दिख रहा था, हमने इसे भयंकर तो माना, पर समुचित कदम नहीं उठाए।



बाद में जो कुछ हुआ, वह आननफानन में लिए गए कदम थे। ये सही है कि कोरोना का यूं अटैक पूरे विश्व पर पहली बार है। इसके कुछ अलग - अलग से रुप और प्रकार से हम विगत कुछ दिनों में परिचित हुए। चूंकि यह एक कृत्रिम वायरस है, जैसा कि कहा जा रहा है,  इसलिए यह हर तरहक की जलवायु, तापमान और स्थान पर पनपा ही नहीं बल्कि फैला और फलफूल रहा है।


ऐसे में सरकार ने लाकडाउन का फैसला लिया,जो अभूतपूर्व था। पूरे देशमें लाकडाउन होने से समय और रसोई के अलावा सब ठप्प पड़ गए। ये शब्द #लाकडाउन पहिले कभी किसी ने सुना नहीं था, लोगबाग में लाकअप प्रचलित था कि गलत कार्य करने पर पुलिस लाकअप में डाल देगी!


खैर, अब बंद तो बंद! ह र तरफ़ बंद , स्कूलबंद, कालेज बंद, यातायात के साधना बंद, मंदिर बंद, मस्जिद, गुरु द्वारे,चर्च सब बंद! शादी समारोह बंद!


मात्र बैंक, पुलिस,अस्पताल,पोस्ट आफ़िस आदि खुले रहे जिसमें बैंकों पर सरकार द्वारा बांटी गई सहायता राशि के भुगतानों का कार्य भी मत्थे आन पड़ा, उनका सब कार्य यूं सामान्य दिनों की तरह चलाने का काफी दवाब बैंककर्मियों ने झेला और झेल रहे और असमय काल के गावँ में समाये जा रहे संक्रमित होकर। यही हाल रेलकर्मियों और चिकित्सा, पुलिस बल के क्षेत्र से जुड़े लोगों का भी है।


इसमें निजीक्षेत्र के कामगारों को काफी मुसीबतें झेलनी पड़ीं। कारखाने,मिल, आफिस,होटल, बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन आदि के अचानक बंद होने से उनका काम-धंधा छिन गया! मालिकों ने पगार दिये ना दिये या आधा पगार दिया, जिससे उनमें भुखमरी की हालत हो गई।


एक तो नौकरी नहीं ऊपर से ये भयंकर बीमारी! वो करें तो क्या करें! ऐसे में तो सबको अपना वतन, छूटे हुए परिजन ही याद आते हैं। तिसपर कुछ राज्य सरकारों ने परिवहन का झूठा आश्वासन देकर उनकी भीड़ इकट्ठा कर कोई जिम्मेदारी नहीं ली।

तब भूख और भय के मारे हमारे मजदूर भाई बहिनों ने पैदल ही गांव की ओर चलना शुरू किया,जो और घातक सिद्ध हुआ! आखिर हजारों किलोमीटर पैदल कड़कती धूप में चलना उस पर पुलिस और प्रशासन की निर्ममता!
ओह!कितने कितने दुख झेले उन मजदूरों और उनके नौनिहालों ने! कितने हृदयविदारक दृश्य,कितनी मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाएं सामने आईं!आए दिन कोरोना की खबरों के अलावा इस तरह की घटनाएं मन-मस्तिष्क को झकझोरती रहीं।


खैर इस कोरोना काल में हम महिलाओं के लिए चतुर्दिक समस्याएं आन पड़ीं! एक तो जिनके परिवारजन पढ़ाई, नौकरी आदि के सिलसिले में दूर दूर हैं, वो तरह तरह की आशंकाओं में घिरी हैं। जिनके सब परिवारजन पास में हैं,मुश्किलें उनकी भी कम नहीं! बाहर से घर आए, सभी बच्चे, बड़ों की खाने पीने की फरमाइशें अलग अलग,घर में सहायता -सेवा के सभी लोग लाकडाउन की वजह से अनुपस्थित! तो पूरे घर की जिम्मेदारी महिलाओं के नाज़ुक कंधों पर। तिस पर तरह -तरह की बीमारियां, जो पहले आराम से मैनेज हो जाती थीं, अभी उनसे निपटना बड़ा ही मुश्किल हो गया है। कोरोना के कारण हस्पताल तक जाना मुहाल है।



लेकिन इस के कारण लोगों को परिवारों के संग मिलकर रहने का मौका लगा। जो अतिव्यस्तता के कारण आपस में बैठना, बातचीत करना, भूल गए थे; अब संग मिल ठहाके लगा रहे हैं। लोगों में नजदीकियां बढ़ीं आपस में प्रेमभाव में वृद्धि हुई।कई परिवारों ने समझ से काम लेकर जिम्मेदारियों को बांटा और सब हंसी-खुशी समय बिता रहे। पर कइयों को इन सबकी आदत ना होने की वजह से मुश्किलें खड़ी हुई हैं।

समाज में इस बीमारी के इंफेक्शन के डर की वजह से तरह तरह की समस्याएं हो रहीं हैं। यह बीमारी खतरनाक तो है, पर लोग बच भी रहे हैं।



जानलेवा उनके लिए है जो पहले से अन्य बीमारियों यथा; मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदयरोग, कैंसर आदि व्याधियों से पीड़ित हैं ; अर्थात् जिनके शरीर में इम्यूनिटी पहले से ही कम है और आज विश्व में पचास के ऊपर तो क्या नीचे की उम्र वाले भी इनसे पीड़ित हैं।

जो कोरोना से  बीमार पड़ते हैं; वो कोरोंन्टाइन करने से कुछ सावधानियां और पंद्रह दिनों के आइसोलेशन से ठीक भी जाते हैं; तो भी पास-पड़ोसके लोग आशंका से भयभीत उन्हें अपने घरों में रहने का विरोध करते हैं। उन्हें तरह तरह से प्रताड़ित किया जाता है कि वह उस स्थान को छोड़ दें।

कोरोना ने परिवार के परिवार खत्म कर डाले हैं।

कोई भी काम करना ; यहां तक कि सब्जी खरीदना तक एक किला फतह करने जैसा कार्य लगता है, सावधानी के ढेर सारे  मानकों का प्रयोग करना होता है।

आनलाइन शापिंग का प्रचलन बढ़ा तो है पर उसमें भी ढेर सारी परेशानियां हैं।
इस समय में सारे निजी अस्पताल और डाक्टरों ने सब क्लीनिक आदि बंद कर रखा है  तो आम जनता का भय दुगुना चौगुना बढ़ गया है। हर वक्त लोग इस सोच में हैं कि कोरोना तो छोड़ो, कोई अन्य बीमारी भी हुई तो कहां जाएं,क्या करें? हम डाक्टर को भगवान माननेवाले लोग अस्पतालों की व्यापारिक बुद्धि के शिकार हो रहे हैं। सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद इलाज इतना मंहगा है और उसके बावजूद तमाम तरह की मुश्किलें हैं। 


अब आएं मुद्दे की बात पर! कोरोनाकाल में हमारा साहित्यिक सफर! काफ़ी अच्छा रहा है ये सफ़र! अब जब कि सब जन घर में हैं, कहीं आना जाना नहीं, कोई नौकर-चाकर नहीं। पूरे घर के काम,सब की अलग अलग फरमाइशों से चिड़चिड़े होते मन को साहित्य के विभिन्न आयामों से बड़ी राहत मिली!


साहित्य एक मरहम तो हमेशा से रहा है पर तकनीक का संग लेकर तो उसमें एक अलग ही निखार आया है।इससे इसका क्षेत्र और विस्तृत हुआ। आज घर में बैठे बैठे लोग उन्हें भी देख-समझ पा रहे हैं जो पहले केवल मंच पर ही दिख पड़ते थे।

अब ऐसे समय में हमने अपने मन में उमड़ आए भावों को जो समय मिलता; उसमें फटाफट शब्द देने की कोशिश की!  अभी मिलना - मिलाना तो बंद है, तो साहित्यिक गोष्ठियों, सम्मेलनों का हो पाना असंभव! फिर इसके लिए आभासी मिलन रखे गए;जो अभूतपूर्व कदम था!


इसमें जमे जमाए साहित्यकारों का तो शिरकत करना निश्चित था ही, नवांकुरों को भी अपनी कविताएं, कहानियां लाइव आकर दर्शकों के सामने पढ़ने का मौका कई बार और कई जगहों पर मिला। वरना कब किसी ने सोचा था कि बड़े-बड़े नामों के साथ उन्हें भी लोग सुनेंगे, देखेंगे और समझेंगे।कई लोगों को अंतर्जाल की अनुपलब्धता से क्षोभ भी हुआ,लोग उन्हें सुन नहीं पाए,वो अपनी बात रख नहीं पाए!



इस समय में जो लाइव सेशन रखे गए मुखपोथी पर ; विभिन्न साहित्यिक पन्नों पर उनमें मुझे भी भाग लेने का अवसर मिला; इस तरह का में मेरा पहिला प्रयास था। इससे मुझे अपने मे भावों के अनुरुप उतार चढ़ाव और संप्रेषणीयता पर अपनी खूबी खामियों का पता चला।

बीहनिकथा मैथिली साहित्य में एक नई विधा है जिसमें अधिकतम सौ शब्दों में अपनी कथा यूं कहनी/लिखनी होती है कि मंतव्य स्पष्ट हो जाए। इसमें मैने कई कथाएं पोस्ट कीं। 'खीस', 'जिज्ञासा'  आदि लिखी  हैं ‌। कई अन्य समूह हैं जिनमें अपनी कथाएं भेजीं; जिसमें दो में विजेता भी हुई। खैर,वो कोई बड़ी बात नहीं ; भाग लेना ही महत्वपूर्ण था। कुछ कविताएं भी विभिन्न विषयों पर लिखीं। जो मुझ स्वयं के लिए नितांत नव अनुभव था।


एक समूह में मैने लाइव कविता पाठ भी किया,वो एक  अलग अनुभव रहा , कुछ ऐसा ही था जैसे मंच पर ही हों और समय समय पर आ रहे लोगों के कमेंट्स का यथोचित सम्मान करते हुए अपनी समझ से जबाब देना बड़ा ही उत्साहवर्धक था कि लोग आपको सुन रहे हैं, उन्हें आपकी रचनाएं बांधे हुए है।

एकाध समूहों ने अपना एडमिन भी बनाया,ये मेरे लिए एक नई और सम्मानजनक बात थी।उसमें साप्ताहिक रुप से विमर्श के लिए विचार रखना और फ़िर उस विचार पर सदस्योंके अनुभवों का विश्लेषण करना नितांत आनन्ददायी था। फ़िर अलग अलग क्षेत्र की विदूषियों को लाइव के लिए आमंत्रित कर उनके संघर्ष, उनकी जीवनयात्रा,  महिलाके रुपमें उनकी कठिनाइयां, उनकी सफलताएं जानकार बड़ा अच्छा लगा।

यह भी पता चला कि कैसे एक महिला अपने सम्मान और बच्चे की सही परवरिश की खातिर अपने बददिमाग पति को छोड़कर बिना कुछ गलत बात अपने बच्चे के मनमें डाले उसकी शानदार परवरिश करती है और सास ससुर के प्रति फ़िर भी अपने कर्तव्य को निभाती है।


बिहार की प्रथम महिला एडीजीपी का लाइव किया हमने और वो भी बिल्कुल नौसिखिये की तरह ही घबराई हुई थीं लाइव सेशन में और अपने जीवनके बारेमें बताते हुए रो पड़ीं; कि कैसे बहन को खोने के बाद माता पिता को उस 


यूं तो साहित्य की दुनिया, विज्ञान को इतना महत्व नहीं देती उसे नीरस कहती हैं ,पर ये विज्ञान ही है जिसने आज साहित्य को रसहीन होने से बचाया, तकनीक का साथ लेकर साहित्य ने बहुतों को मानसिक अवसाद से उबारा।मुखपोथी (फेसबुक) के अलग-अलग पन्नों पर अपनी काबिलियत दिखाने का और तुरंत मिलते रेस्पांस से अपनी विद्वता को भी जांचने-परखने-निखारने का अद्भुत अवसर सिद्ध हुआ है।

कोरोना ने जितनी नृशंसता से मानवजाति का संहार किया हो, उससे कुछ अच्छी बातें भी समझ में आईं हैं।विकट परिस्थितियों से जुझने में साहित्य हमारा संबल बनकर उभरा है। नई नई विभिन्न प्रतिभाओं को उभरने का अवसर मिला है।


ये मेरे लिए नितांत नया अनुभव था। चूंकि अभी कोई गोष्ठी या सम्मेलन तो संभव नहीं है। तो इस समय साहित्यक लोगों को उनका मनोबल और रचनाधर्मिता बनाये रखने में तकनीकी ने अभूतपूर्व साथ दिया।



फिर भी अब बहुत हुआ, जल्द कोई वैक्सीन मिले या कोई और इलाज कि हम इससे उबर पाएं! हांलांकि अभी इसकी कोई उम्मीद नहीं दिखती!पर उम्मीद पे दुनिया क़ायम है!
.......

लेखिका - कंचन कंठ 
लेखिका का ईमेल आईडी - kanchank1092@gmail.com
प्रतिक्रिया हेतु इस ब्लॉग का ईमेल आईडी - editorbejodindia@gmail.com

Tuesday, 30 June 2020

I love to fly with my limited wing / Poem by Arjun Prabhat

Poem

 (Main page - bejodindia.in / Join this blog / Checdk it after every 12 hrs-   FB+  Bejod  /  Comment here)




I love freedom,but not without restriction,
For unrestricted freedom leads to anarchy.
That's the root of every custom and tradition,
Whether it be democracy or monarchy.

I love my rights,but not without duty,
For unrestricted rights bring struggle and strife.
Right tempered with duty is real beauty.
It sweetens and makes pleasant our life.

I love friends who hold judicious view,
And make sound criticism on our action.
Who come forward to judge our action and review.
Flattery never resides in their suggestion.

I love to fly with my limited wing.
And compose my humble songs to sing.
...
Poet - Arjun Prabhat
Email ID of the poet - arjunprabhat1960@gmail.com
Email ID of this blog for response - editorbejodindia@g,ao;.com

Tuesday, 16 June 2020

जिनकी चाहतें हौसले के दायरे में नहीं आती / विजय भटनागर

ग़ज़ल 


 (मुख्य पेज - bejodindia.in / ब्लॉग में शामिल हों / हर 12  घंटे  पर  देखिए -   FB+  Bejod  / यहाँ कमेन्ट कीजिए)




जिनकी चाहतें हौसले के दायरे में नहीं आती
उनकी समझ में जिदगी की भूल भुलैया नही आती।

जमीन पर ठीक से चलने की तरकीबें समझ के बाहर
तारे तोड़ने की हसरत भी दिल से निकल नहीं पाती।

कद बढे लेकिन पैर जमीनपर रखने की आदत रखो
जमी से उठे कदमो के तले कभी भी मंजिल नही आती।

हर एक बंदे में बसती है रूह उस परवरदिगार की
बिना उसकी मेहर के जिंदगी में कोई खुशी नहीं आती।

विजय ने हर बंदे मे उस खुदा का नूर  हर पल देखा है
बिना बंदो की दुआ के जिंदगी में बरक्कत नहीं आती।
...

वि= विजय भटनागर 
परिचय- श्री विजय भटनागर एक सेवानिवृत वैज्ञानिक हैं और नवी मुम्बई में अत्यंत सक्रिय कवि हैं जो काव्योदय नामक संस्था के मुख्य आधार-स्तम्भ हैं.
वर्तमान निवास - नवी मुम्बई
ईमेल आईडी - vijatkbhatnagar@gmail.com
मोबाइल-   9224464712
प्रतिक्रिया हेतु इस ब्लॉग का ईमेल आईडी - editorbejodindia@gmail.com